PR Newswire: news distribution, targeting and monitoring

मैग्सेसे अवार्डी Anshu Gupta ने IMT गाज़ियाबाद में 2nd 'आईएम द चेंज टॉक ' प्रस्तुत की -दूरदर्शी बनें... भविष्य की सोचें'

नई दिल्ली और गाज़ियाबाद, भारत, February 17, 2017 /PRNewswire/ --

भारत के प्रीमियर मैनेजमेंट स्कूल IMT गाज़ियाबाद में, जहां नवाचार, निष्पादन और सामाजिक जिम्मेदारी पर विशेष ध्यान दिया जाता है, मंगलवार, 7 फरवरी 2017 को 'गूंज' के संस्थापक और 2015 के मैग्सेसे अवार्डी Anshu Gupta द्वारा 2nd 'आईएम द चेंज टॉक' होस्ट किया गया। इस टॉक का शीर्षक था दूरदर्शी बनें... भविष्य की सोचें

     (Photo: http://mma.prnewswire.com/media/468894/Anshu_Gupta_IMT_Ghaziabad.jpg )
     (Logo: http://photos.prnewswire.com/prnh/20161003/414849LOGO )

'I'M The Change Talk Series' ऐसे प्रतिष्ठित शख्सियतों के द्वारा होस्ट की जाती है जिन्होंने संवहनीयता के क्षेत्र में या सकारात्मक सामाजिक बदलाव लाने की दिशा में एक अनुकरणीय योगदान दिया है। यह टॉक सीरीज़ IMT गाज़ियाबाद की संवहनीयता और सामाजिक दायित्व (SSR) की 'I'M The Change' मुहिम का एक हिस्सा है। इस मुहिम को 1 अक्टूबर, 2016 को शुरू किया गया था, यह महात्मा गांधी की शिक्षा 'Be the change you want to see in the world' से प्रेरित है और इसमें IMT गाजियाबाद के प्रमुख दो साल के पूर्णकालिक PGDM के छात्रों के लिए SSR पर आधारित अनिवार्य 3-क्रेडिट एक्सपेरिमेंटल लर्निंग कोर्स शामिल है।

संदर्भ भूमिका बनाते हुए, SSR की फैकल्टी इंचार्ज Dr Kasturi Das  ने कहा, ''The I'M The Change Talk का विचार SSR कोर्स के अभिन्न हिस्से के रूप में आया था ताकि हमारे छात्र परिवर्तन के असली नायकों से रूबरू हो सकें, जैसे कि AnshuJi हैं और उनमें समाज के लिए कुछ अच्छा करने की प्रेरणा जगे, और संभवत: इसी के जरिए आगे बढ़ते हुए उनके अंदर भी एक परिवर्तनकारी या चेंज मैकर्स बनने का बीज बोया जा सके!'' SSR कोर्स IMT द्वारा विकसित की गई अद्वितीय शैक्षणिक नवीनता है और इसे जमीनी-स्तर पर लागू किया गया है जिसकी पुष्टि उस समय हुई जब 'I'M The Change Initiative' को संयुक्त राष्ट्र द्वारा जिम्मेदार प्रबंधन शिक्षा (PRME) के लिए इसे विश्व स्तर पर मान्यता दी गई।'' उन्होंने कहा कि, हमारी सभी सामाजिक परियोजनाएं एक या 17 से अधिक सतत विकास लक्ष्यों (SDGs) के साथ जुड़ी हुई है, जिन्हें संयुक्त राष्ट्र द्वारा सितंबर 2015 में अपनाया गया।

इससे आगे बढ़ते हुए, यह एक गतिमान चर्चा थी जिसमें Anshu Gupta ने संसाधनों के असमान वितरण, सरकारी सब्सिडी, वैकल्पिक मुद्राओं, मासिक धर्म स्वच्छता, और शहरी गरीबों के बीच पीने के पानी और बिजली की कमी सहित कई विषयों को छुआ।

देश में संसाधनों के दुरुपयोग की ओर इशारा करते हुये इन्‍होंने कहा कि हमारे नीतिनिर्माताओं की प्राथमिकता सूची में रेलवे स्‍टेशनों पर पीने के साफ़ पानी की उपलब्‍धता से भी ऊपर हवाई अड्डों पर लगे झाड़फानूस आते हैं। इन्‍होंने कहा, ''दुनिया के सबसे अच्छे एयरपोर्ट्स में से एक, मुंबई में है, तो एशिया की सबसे बड़ी झुग्गी बस्ती धारावी भी वहीं है।" एक सरकारी सब्सिडी वाले कॉलेज के छात्र रहे, Anshu Gupta ने इस बात पर खास ज़ोर दिया कि जब हम शिक्षा की सब्सिडी का फायदा उठा लें तो उसे समाज को लौटाना चाहिए। कृषि सब्सिडी के मुद्दे पर, उन्होंने इसके अर्थशास्त्र पर सवाल उठाते हुए कहा, कि कृषि उत्पादों के वास्तविक मूल्य में हो रही बढ़ोतरी के कारण बढ़ने वाली महंगाई से ये आम आदमी की पहुंच से बाहर हो जाएंगे। किसानों की आत्महत्या की चिंताजनक संख्या का हवाला देते हुए उन्होंने आर्थिक उपाय के रूप में कृषि सब्सिडी के अप्रभावी होने की बात को ज़ोरदार ढंग से रखा। उन्होंने विकास के श्रम, कौशल, समय और सामग्री के लिए वैकल्पिक मुद्राओं के विकास के बारे में बात की। उन्होंने कहा, "हमारी पहल है कि एक समानांतर अर्थव्यवस्था बने, नकदी आधारित नहीं, बल्कि कचरा आधारित है" उन्होंने 'Goonj' द्वारा शुरू की गई एक नई पहल 'काम के बदले कपड़े' के बारे में बताया जिसमें ग्रामीण लोग बुनियादी ढांचा परियोजनाओं के लिए अपना कौशल और श्रम लगाते हैं, और इसके बदले में उन्हें कपड़े और अनाज दिया जाता है। वाक्यों और व्यक्तिगत अनुभवों को साझा करते हुए, Anshu Gupta ने कपड़ों (कपड़ों की कमी) को विकास के एजेंडे में एक आवश्यक विकास लक्ष्य के रूप में रखने की बात की ।

और अंत में, एक ऐसे देश में जहां मासिक धर्म अभी भी एक वर्जित विषय है, Anshu Gupta  ने सैनिटरी नैपकिन के मुद्दे को छुआ। उन्होंने ग्रामीण क्षेत्रों में महिलाओं के लिए बुनियादी स्वच्छता की भारी कमी की ओर इशारा करते हुए कहा कि, आश्चर्य है कि वहां नैपकिन की तुलना में कार्बोनेटेड ड्रिंक्स और बिस्किट्स कितनी जल्दी पहुंच जाते हैं। उन्होंने छात्रों से आह्वान किया कि वे अगर  महिलाओं की स्वच्छता से जुड़े प्रोजेक्ट्स शुरू करने जैसे छोटे कदम भी उठायें, तो उनकी कोशिश इस क्षेत्र में बड़े पैमाने पर परिवर्तन ला सकती है।

अपनी पूरी बात के दौरान,उन्होंने इस ज़रूरत पर ज़ोर दिया कि हमें वर्तमान में अपने देश के सामने खड़ी बुनियादी समस्याओं को हल करने के लिए अपने हाथ गंदे करने ही होंगे, ''एक राष्ट्र के रूप में हम मलेरिया का इलाज करना चाहते हैं, लेकिन कोई भी मच्छरों से निपटना नहीं चाहता।''

SSR कोर्स की ज़रूरत के बारे में बताते हुये, जिसमें  IMT के छात्र वंचित समुदायों के साथ लाइव सामाजिक परियोजनाओं में काम कर रहे हैं, IMT गाजियाबाद के निदेशक Dr Atish Chattopadhyay ने  बताया कि कैसे स्थिरता और सामाजिक जिम्मेदारी के मुद्दे लीडरशिप को संवारने के लिए संस्थान की फिलॉसफी में समाहित किए गए हैं। उन्होंने कहा कि, "एक उद्यमी और एक सफल उद्योगपति, हमारे संस्थापक, Shri Mahendra Nath ji, ने IMT गाजियाबाद की स्थापना अपनी सामाजिक जिम्मेदारी निभाने के उस मिशन के रूप में की है, जिसके जरिए वे समाज को कुछ लौटा सकें''

IMT गाज़ियाबाद के बारे में 

1980 में स्थापित, इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट टेक्नोलॉजी, गाज़ियाबाद (IMTG) की भारत का एक प्रीमियर AACSB मान्यता प्राप्त मैनेजमेंट स्कूल है जिसका विशेष ध्यान निष्पादन और सामाजिक दायित्व के माध्यम से नेतृत्व को संवारने पर है। यह एक स्वायत्त, गैर-लाभकारी-संस्था के रूप में पिछले साढ़े तीन दशकों से उच्च संभावनाओं से भरे स्नातकोत्तर उपरांत प्रोग्राम्स उपलब्ध कर रहा है। IMTG में वर्तमान में AICTE द्वारा स्वीकृत चार प्रोग्राम्स - पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन मैनेजमेंट (PGDM) फुल टाइम, PGDM एक्ज़िक्यूटिव, PGDM पार्ट टाइम, और PGDM ड्युअल कंट्री प्रोग्राम (DCP) चल रहे हैं। शुरू के तीन प्रोग्राम्स IMTG कैंपस गाज़ियाबाद, दिल्ली एनसीआर, भारत में जबकि PGDM DCP IMT दुबई कैंपस के सहयोग के साथ चलाया जा रहा है। पोस्ट ग्रेजुएट प्रोग्राम इन मैनेजमेंट (PGPM) इस लिस्ट में सबसे नया है जो PGDM पार्ट टाइम की ओर जाता है।

IMTG को लगातार अपने नेतृत्व, संकाय, अनुसंधान, छात्र चयन प्रक्रिया, पाठ्यक्रम, शिक्षा शास्त्र, उद्योग इंटरफेस, अंतर्राष्ट्रीयता, प्लेसमेंट और बुनियादी सुविधाओं के लिए देश के शीर्ष प्रबंधन संस्थानों के बीच स्थान दिया गया है।

आज, IMTG 300 से अधिक सी सुइट अधिकारियों और ऐसे हजारों पेशेवरों का गर्वपूर्ण अल्मा मेटर है जो भारत और दुनिया में सबसे प्रसिद्ध संगठनों में बिक्री के प्रमुख व्यावसायिक कार्यों, मानव संसाधन, कंसल्टिंग, सूचना प्रौद्योगिकी, मार्केटिंग, और फाइनेंस के अलावा अन्य क्षेत्रों में अपनी सेवाएं देकर नेतृत्व कर रहे हैं। अधिक जानकारी के लिए विजिट करें http://www.imt.edu.


मीडिया संपर्क:
Himanshu Dandotiya
hdandotiya@imt.edu
+91-9558808618
Manager - Digital Marketing
IMT Ghaziabad

SOURCE Institute of Management Technology Ghaziabad



Journalists and Bloggers

Visit PR Newswire for Journalists for releases, photos and customised feeds just for media.

View and download archived video content distributed by MultiVu on The Digital Center.

 

Get content for your website

Enhance your website's or blog's content with PR Newswire's customised real-time news feeds.
Start today.

 

 
 

Contact PR Newswire

Send us an email at indiasales@prnewswire.co.in or call us at +91 22 6169 6000

 

 
 

Become a PR Newswire client

Request more information about PR Newswire products & services or call us at +91 22 6169 6000

 

 
  1. Products & Services
  2. Knowledge Centre
  3. Browse News Releases
  4. Contact PR Newswire